Information on peacock in hindi | मोर के बारे में रोचक जानकारी

मोर के बारे में जानकारी-

Peacock

  • मोर पृथ्वी पर सबसे बड़े उड़ने वाले पक्षियों में से एक है इनके पंख की लंबाई 4.9 फ़ीट होती है।
  • मोर शब्द दोनों नर और मादा पर लागू नहीं होता , नर मोर को “मोर” तथा मादा मोर को “पीहर” और बच्चों को आड़ू कहा जाता है।
  • मोर के पीछे वाला पंख जो कि बहोत ही सजावटी दिखता है असल मे उसको “ट्रेन” कहा जाता है।
  • एक औसतन जंगली मोर का जीवनक लगभग 20 वर्ष का होता है, यदि इन्हें पालतू बनाया जाय तो इनकी जीवनकाल लगभग 50 वर्षों की हो सकती है।
  • मोर पहले जंगलों और वर्षावनों में रहते थे, वहां का वातावरण इनके लिए आरामदायक और प्राकृतिक आवास था।
  • हिन्दु धर्म मे मोर का एक महत्वपूर्ण अर्थ है, यह ज्ञान, परोपकार और करुणा का प्रतीक है। 
  • मोर जब जन्म लेते है तब उनकी पूंछ नही होती इसीलिए वो ज्यादा सुंदर नहीं दिखते है, जन्म लेने के तीन साल बाद उनको पुंछ आती है।
  • सबसे आम नीला मोर है जो कि भारत और श्रीलंका में पाया जाता है, इसके बाद जावा और म्यामार में रहने वाला हरा मोर और कांगो मोर सबसे कम जो कि अफ्रीकी वर्षावनों में पाया जाता है।
  • मोर ज्यादातर दोपहर के समय अंडे देतीं है और ये एक बार मे छह अंडे देती है लेकिन कभी कभार इनके और ज्यादा अंडे देने के मामले भी सामने आए है।
  • नर और मादा मोरों के बीच अंतर उनके आकार का है, मोर और पीहर का आकार अगल अलग होता है नर मोर अक्सर मादा मोर के आकार से दुगने होते है।
  • मोर के चलने की गति औसतन 16 किलोमीटर प्रति घण्टे की होती है।
  • मोर की सभी प्रजातियों में क्रस्ट उनके सिर के ऊपर होते हैं, हालांकि अलग अलग प्रजातियों और लिंगो में इनका आकर और रंग अलग हो सकते है।
  • मोर अकेले रहना पसंद नहीं करते, इसलिए वे ज्यादातर छोटे छोटे समूहों में रहते है।
  • मोर वसंत में प्रजनन के मौसम के दौरान अपने पंखों को फैला लेतें है जो कि देखने में बहोत ही सुंदर और चमकीला लगता है।
  • जब मोर के प्रजनन का समय आता है तब नर मोर मादा मोर को लुभाने के लिए जितना संभव हो सके उतना कोशिश करता है, उस समय वो अपने क्षेत्र की ज्यादा सुरक्षा करता है तथा अन्य नर मोरों को भगाने के लिए पूरी कोशिश करता है।
  • एशिया के कई इलाकों में मोर का शिकार किया जाता है, इसलिए जिन इलाकों में इनका शिकार किया जाता है मोर अक्सर वहां देखने को नहीं मिलते क्योकि ये उस वातावरण से डरते है हालांकि भारतीय मोर को धार्मिक कारणों के कारण एशिया में कई जगहों पर संरक्षित किया जाता है।
  • जंगल मे नर मोर की बस एक ही मादा साथी नहीं होती बल्कि कम से कम दो होती है ज्यादातर नर मोर की पांच मादा साथी होती है।
  • मोर के समूह को हरम कहा जाता है और मादा मोर के एक समूह को बीवी।
  • सिर्फ नर मोरों के ही पीछे के पंख (पुंछ) सुंदर दिखती है वहीं मादा मोर के भूरे रंग के पंख होते है।
  • जब मोर अपनी पूंछ को एक निश्चित तरीके से हिलाते है तब यह एक शोर पैदा करता है जो कि गुजरने वाली कार के समान है। लेकिन यह मानव को कान को घने झाड़ी में तेज हवा चलने जैसा सुनाई देता है।
  • जब मोर पैदा होता है तब इनके लिंग की पहचान करना बहोत मुश्किल होता है, लेकिन ये बहोत तेजी से बढ़ते है एक सप्ताह बाद चलने और कुछ महीनों में उड़ना सिख जाते है।
  • मोर शिकारियों से बचाने के लिए अपने अंडे घोसले में नहीं बल्कि दूर जाकर देतें है जिससे वो शिकारियों को भ्रमित कर सकें।
  • सफेद मोर को लोग यह मानते है कि ये शाश्वत सुख का वाहक है।
  • मोर गर्म और आर्द्र जलवायु वाले स्थानों पर रहते है ये ज्यादा ठंड सहन नहीं कर सकते।
  • मोर उन स्थानों पर रहना ज्यादा पसंद करते है जहां उन्हें पौधों वहीं पेड़ कम हो इसलिए इनका निवास खेत, झाड़ियां तथा वर्षावन होता है।
  • मोर जहरीले सांपो को आसानी से पकड़ सकता है इसीलिए लोग इन्हें पालते है।

मोर के बारे में ये मज़ेदार तथ्य आपको कैसे लगे कमेंट में जरूर बताएं, धन्यवाद!

Leave a Comment