डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया था | डीजल इंजन से जुड़ी रोचक जानकारियां

डीजल इंजन का अविष्कार किसने और कब किया-

डीजल इंजन का अविष्कार रुडोल्फ डीजल ने किया था, इनका पूरा नाम ‘रुडोल्फ क्रिश्चयन कार्ल डीजल’ था इनका जन्म 18 मार्च 1858 में पेरिश में हुआ था। इन्होंने 14 साल की उम्र में ही इंजीनियरिंग के क्षेत्र में करियर बनाने का फैसला किया। और सन् 1880 में अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की और फिर उसके बाद 1892 में अपने इंजन पर काम करना शुरू किया। डीजल इंजन एक आंतरिक दहन इंजन है डीजल इंजन को आंतरिक दहन इंजन इस लिए कहा जाता है क्योकि यह ईंधन को अपने अंदर जलाता है इसलिए इसे आंतरिक दहन इंजन कहा जाता है। डीजल इंजन का नाम इंजन इस लिए पड़ा क्योकि ये, इंजीनियर रुडोल्फ डीजल द्वारा अविष्कार किया गया था इसलिए डीजल इंजन का नाम इंजन पड़ा। फिर रुडोल्फ डीजल ने 1894 में डीजल इंजन का अविष्कार किया और उसे चलाया। डीजल इंजन को आंतरिक दहन इंजन के अंदर सुधार करने के लिए डिजाइन किया गया था ताकि अधिक दूरी की यात्रा तय कर सके। डीजल इंजन के आविष्कार से पहले उपयोग में लिए जाने वाले इंजन भाप इंजन और गैसोलीन इंजन थे।

भाप इंजन की क्षमता लगभग 6% थी और गैसोलीन इंजन की क्षमता लगभग 12% थी। और श्री रुडोल्फ डीजल द्वारा डिजाइन किए गए डीजल इंजन की क्षमता 26% थी, यह इंजीनियरिंग के क्षेत्र में एक बड़ी सफलता थी। 

डीजल इंजन का अविष्कार कैसे किया गया-

रुडोल्फ डीजल ने दहन इंजन को बनाने से पहले एक रेफ्रीजरेंट इंजीनियर के रूप में काम करके अपने करियर की शुरुआत की थी। श्री डीजल ने सबसे पहले अमोनिया के वाष्प का उपयोग करके भाप से चलने वाले इंजन को बेहतरीन बनाने पर काम किया। तभी दुर्भाग्य से परीक्षण करते समय इंजन के अंदर हिंसक बिस्फोट हुआ। तभी हिंसक बिस्फोट ने उन्हें गंभीर रूप से घायल कर दिया।

श्री डीजल ने अपनी चोटो से उभरने के बाद, उन्होंने भाप इंजन पर आगे काम करना बंद कर दिया। फिर उसके बाद उनके दिमाग मे एक नया विचार आया जो एक सिद्धान्त पर आधारित था जिसमे कहा गया था कि “अत्यधिक संकुचित हवा एक बेहतरीन प्रक्रिया का कारण बनाती है”। इसलिए उन्होंने एक प्रयोगशाला स्थापित की, जहाँ उन्होंने एक काम करने वाले इंजन के निर्माण में 8 वर्सो तक काम किया, इंजन का काम पूरी तरह से इसकी दहन प्रकिया में संपीडन प्रज्वलन के उपयोग आधारित था।

डीजल इंजन अपनी दक्षता और शक्ति के कारण बहुत लोकप्रिय हो गया। 1912 के अंत तक पूरी दुनिया मे 70,000 से अधिक कार्यशील डीजल इंजन बन चुके थे, डीजल इंजनों ने उद्योगों को आर्थिक रूप से भारी शुल्क वाले कार्य करने की अनुमति दी।

डीजल इंजन कैसे कार्य करता है-

डीजल इंजन एक चार स्ट्रोक इंजन है, इसका मतलब है कि यह हर एक ईंधन इनलेट के लिए 4 बार हमला करता है, डीजल इंजन में काम करने वाले 4 स्ट्रोक है।

1. सक्शन स्ट्रोक: सक्शन स्ट्रोक के दौरान सिलेंडर में हवा ली जाती है।

2. संपीडन स्ट्रोक: सक्शन के बाद, इंजन का सिलेंडर हवा को संपीडन करना शुरू कर देता है ताकि इसका तापमान इस इस्तर तक बढ़ जाये ताकि ईंधन आसानी से प्रज्वलित हो सके।

3. इंजेक्सन स्ट्रोक: संपीडन स्ट्रोक के अंत मे इंजेक्सन के माध्यम से ईंधन का छिडकाव किया जाता है। तभी ईंधन प्रज्वलित होता है, जब वह हवा के सम्पर्क में आता है जो संपीडन के कारण गर्म हो गया होता है। परिणामस्वरूप सिलेंडर में गैसों का तापमान और दबाव बढ़ जाता है बढ़ाता दबाव पिस्टन को नीचे की ओर बढ़ाने और शक्ति पैदा करने पर मजबूर करता है।

4. थकावट स्ट्रोक: इंजेक्सन स्ट्रोक के बाद ईंधन को प्रज्वलन के कारण गठित गैसों को आउटलेट वाल्व से समाप्त किया जाता है। चौथे स्ट्रोक के बाद चक्र फिर से हवा के चूषण और थकावट से दोहराता है। इसके परिणाम स्वरूप, बिजली लगातार उत्पादित होती रहती है। 

डीजल इंजन का इतिहास 

डीजल इंजन (एक संपीडन प्रज्वलन या ci इंजन के रूप में सही ढंग से समझा जाता है) एक आवक भस्मीकरण इंजन है जिसमे ईंधन को प्रज्वलित किया जाता है। और यह हिंसक तापमान से मुख्य होता है जिसे पेट्रोल का एहसास कराता है। डीजल इंजन भीड़ में केवल म्यान का काम करते हैं यह पिस्टन के अंदर हवा में तापमान को इतना अधिक मात्रा में बड़ा देता है।

 यह परमाणु डीजल के फायरिंग को प्रज्वलित करता है जिसे दहन कक्ष में इंजेक्ट किया जाता है।

यह स्पार्क-अग्निशन  इंजन जैसे की गैस इंजन या गैस इंजन के साथ विरोधाभास करता है, जो गैस ईंधन मेंडल को प्रज्वलित करने के लिए स्पार्क प्लग को काम देता है।

 संपीडन-अग्निशय इंजन में फायर वार्ड का उपयोग ठंड के मौसम में शुरू करने के लिए किया जा जाता है या जब इंजन काम संपीडन अनुपात या दोनों का उपयोग करता है तब भी फायर वार्ड का उपयोग किया जाता है।

1970 के दसक के बाद से अमेरिका के बड़े आन रोड़ और ऑफ रोड़ के बड़े वाहनों में प्रयोग किया जाने लगा फिर संपीडन-अग्निशन इंजन के रोजगार में बृद्धि हुई, ब्रिटिश शोसाईटी ऑफ मोटर मेन्युफेक्चरिंग एंड ट्रेडर्स के अनुसार, कुल बिक्री के 50% हुई थी।

 संपीड़न-अग्निशन इंजन रेल कार्य में भी उपयोग किया गया था।

Leave a Comment

बालों में गजरा डाले Alia Bhatt का कमाल लुक, खूबसूरती ने किया कायल Katrina kaif और Vicky kaushal की हल्दी सेरेमनी की की फोटोज आयी सामने